आपके दांतों का रंग एक बहुत बड़ी परेशानी की बात होती है. साथ ही पीले दांत आपकी हेल्थ के बारे में भी बहुत कुछ बयान कर सकते हैं. आइए आज हम आपको बताते हैं, कैसे दांतों का रंग आपके स्वास्थ्य के बारे में बताता हैं.

जैसे आपके चेहरे की स्माइल आपकी पर्सनेलिटी को बढ़ाती है, वैसे ही साफ और सुंदर दांत आपकी मुस्कुराहट में चार चांद लगा देते हैं. आप खूबसूरत दिखने के लिए अपने शरीर पर बेहद ध्यान देते हैं. मगर जब बात आपके दांतों की आती है तो आप जब इनमें दर्द, सूजन, पीलापन आदि की समस्याएं होती हैं तब इनके बारे में सोचते हैं. अक्सर लोग दोंतों के पीलेपन की वजह से परेशान रहते हैं क्योंकि पीले दांत देखने में बहुत ही खराब लगते हैं. मगर क्या आपको पता है कि आपके दांतों का रंग आपकी हेल्थ के बारे में भी बहुत कुछ बता सकता है.

मीठे पदार्थों को खाने से बचें
आपको अपने दांतों को हेल्दी और कैविटी से बचाए रखने के लिए सबसे पहले मीठे पदार्थों को खाना कम करना होगा. इससे बैक्‍टीरिया दांतों में बनने वाले स्वस्थ तरल पदार्थ को बनने से रोकते हैं. इसी वजह से दांतों में सड़न की समस्या पैदा हो जाती है. इस‍लिए मीठा खाने के बाद मुंह की सफाई करना बहुत ही जरूरी है.

तेल से कुल्ला करना

तेल से कुल्ला करने से मसूढ़ों से खून बहना और सांस की बदबू को दूर किया जा सकता है. यह एक बहुत ही पुराना नुस्‍खा है. यह दांतों को खराब करने वाले हानिकारक बैक्‍टीरिया को मुंह से निकालने में मदद करता है. इसके लिए तिल के तेल की एक चम्‍मच को मुंह में भरकर रखें. फिर 20 मिनट के बाद मुंह से थूक दें, लेकिन इसे निगलने से बचें.

नीम का उपयोग करें

नीम औषधीय गुणों से भरपूर होता है. यह कैविटी के इलाज के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है. इसमें एंटी-बैक्‍टीरियल गुण होने के कारण यह बैक्‍ट‍ीरिया से होने वाली कैविटी को दूर करने में सहायक होता है. इसके साथ ही यह दांतों और मसूड़ों को हेल्दी और मजबूत बनाने में भी मददगार होता है. नीम का दातून दांतों के लिए रामबाण है.

हल्‍दी का इस्तेमाल करें

हल्दी में मौजूद एंटी-बैक्‍टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुणों की वजह से यह मसूढ़ों को हेल्दी रखने के साथ ही बैक्‍टीरियल संक्रमण तथा दांतों को गिरने से बचाता है. इसके लिए आप दांत पर थोड़ा सा हल्‍दी पाउडर लगाकर इसे कुछ मिनटों के लिए छोड़ दें. फिर गुनगुने पानी से कुल्‍ला कर साफ कर लें.

हेल्दी फूड्स खाएं

आपको पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए क्योंकि इससे आपके दांतों को बैक्‍टीरिया से लड़ने में मदद मिलती है. आपको अपने आहार में, हरी पत्तेदार सब्जियों को जरूर शामिल करना चाहिए. इसके अलावा नारियल तेल, एवोकैडो, नट और बीज का भी सेवन करना चाहिए. यह दांतों को कैविटी से बचाने में सहायक होते हैं.

डॉक्टर की सलाह

कास्मेटिक डेंटल सर्जन, डॉक्टर पायल अग्रवाल का कहना है कि, ‘दांतों का पीलापन विभिन कारणों से हो सकता है. प्लाक यानी दांतों पर वेक्टीरिया की नरम परत की अद्धिकता, सिगरेट, पान मसला आदि का सेवन एवम कुछ जन्मजात बीमारियां भी इसमें शामिल हैं. इससे बचने के लिए दिन में दो बार दांत व जीभा को साफ़ करना, पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ का सेवन करना, मीठे पदार्थों, पान मसाला एवम सिगरेट का सेवन ना करने से दांतों के पीलेपन की रोकथाम की जा सकती है. घरेलू स्तर पर मसूड़ों पर नीम व हल्‍दी लगाने, मुंह में औयिल पूलिंग करने से एंटी-बैक्‍टीरियल इफ़ेक्ट से प्लाक यानी बैक्‍टीरियल ग्रोथ को कम किया जा सकता है. पूरी तरह ठीक होने के लिए दांत के चिकित्सक से हर छ: माह में चेकअप करना तथा दाँतो की सफ़ाई कराना अनिवार्य है.’

मुंह की दुर्गंध आपको कर रही है परेशान तो ऐसे पाएं इससे छुटकारा

Leave a Reply