कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में लॉकडाउन है. आवागमन बंद होने से कई राज्यों के यात्री दूसरे राज्यों में फंसे गए हैं. थोड़ी रियायत मिलने के बाद राज्य सरकारें, प्रशासन अपने लोगों को वापस लाने के लिए तमाम तरह के उपाय कर रही हैं.

जम्मू: लॉकडाउन के चलते देश के दूसरे हिस्सों में फंसे जम्मू कश्मीर के करीब 87984 लोगों को प्रदेश सरकार अबतक वापस ला चुकी है. प्रदेश सरकार ने इन लोगों को वापस लाने के लिए 26 कोरोना स्पेशल ट्रेनों, 4 फ्लाइट्स समेत दर्जनों बसें चलाई है, जिनमें कोरोना से बचने के लिए सभी प्रोटोकॉल्स पर अमल होता है.

सोमवार से शुरू हो रही घरेलू हवाई सेवाओं पर जम्मू-कश्मीर सरकार का कहना है कि जम्मू-कश्मीर आने वाले सभी यात्री चाहे वह हवाई रास्ते से, रेल रास्ते से या किसी अन्य यातायात के साधन से जम्मू कश्मीर पहुंचे उन्हें 14 दिन के क्वारंटाइन में रखा जाएगा, और उनका टेस्ट किया जाएगा. अगर टेस्ट नेगेटिव आता है तो इन लोगों को घर भेजा जाएगा और अगर किसी यात्री का टेस्ट पॉजिटीव पाया जाता है तो उसे हॉस्पिटल भेजा जाएगा.

इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर सरकार ने सभी विमान कंपनियों को अपने सभी यात्रियों को इस बारे में जानकारी देने को भी कहा है. शनिवार को श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 151 यात्री पहुंचे जिसके साथ ही जम्मू-कश्मीर में हवाई यात्रा कर पहुंचने वाले यात्रियों का आंकड़ा 652 हो गया है.

प्रशासन अबतक सड़क के रास्ते 65374 यात्रियों को राज्य में ला चुका है. वहीं दूसरे राज्यों में फंसे हुए यात्रियों को वापस लाने के लिए चलाई गयी 26 ट्रेनों के जरिए 2192 2 लोगों को उधमपुर रेलवे स्टेशन लाया गया है. शनिवार को लखनपुर से करीब 875 यात्रियों ने जम्मू का रुख किया जबकि 797 यात्री विशेष ट्रेन से जम्मू पहुंचे. वहीं कोविड स्पेशल ट्रेन के जरिए त्रिवेंद्रम से उधमपुर पहुंचने वाले यात्रियों की संख्या 717 थी.

J&K: श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की अनोखी पहल, क्वॉरंटीन में रह रहे मुसलमानों को दे रहा है सहरी-इफ्तारी

जम्मू कश्मीर: विशेष ट्रेनों से 13120 श्रमिकों को उनके गृह राज्य वापस भेजा गया



Source link

Leave a Reply