लॉकडाउन के चलते एक 12 साल के मासूम बच्चे को दो महीने तक पार्क में रहना पड़ा. जरूरी काम से गांव गए मां-बाप समय पर वापस नहीं लौट सके और रिश्तेदार के घर वो रहना नहीं पाया क्योंकि उनका रवैया ठीक नहीं था.

नई दिल्ली: दिल्ली के एक मजदूर परिवार को लॉकडाउन से पहले अपने घर बिहार जाना पड़ा. मां बाप ने अपने 12 साल के बेटे विशाल को दिल्ली में इसलिए छोड़ दिया क्योंकि उसकी परीक्षा थी.लेकिन रिश्तेदारों के बुरे बर्ताव के कारण विशाल उनका घर छोड़ कर भाग गया और द्वारका की एक पार्क में कुछ कुत्तों के साथ आकर रहने लगा. पार्क में योगिता गली के कुत्तों को खाना डालने आती थी और रोज़ बच्चे को पार्क में बैठा देख उसने एक दिन जानना चाहा कि लॉकडाउन होते हुए भी ये बच्चा अकेला भरी दोपहरी में क्यों बैठा है.

एबीपी न्यूज से खास बातचीत में योगिता बताती हैं कि मैं गली के कुत्तों को खाना डालने जाती थी, यहीं मैंने इस बच्चे को देखा. मैंने उससे पूछा तुम घर क्यों नहीं जाते तो उसने बोला कि उसका घर बहुत दूर गांव में है और वो यहीं रहता है. बच्चे ने बताया कि 19 मार्च को एक परीक्षा होने के कारण उसके मां बाप उसे दिल्ली में रिश्तेदारों के पास छोड़ कर बिहार ,अपना ज़रूरी काम निपटाने चले गए थे. लेकिन 22 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन घोषित कर दिया गया जिस कारण मां बाप लंबे वक़्त तक अपने बेटे को बिहार के समस्तीपुर से वापस लेने नहीं आ पाए. लिहाज़ा बच्चा करीब दो महीने तक पार्क में ही रहता रहा, जब तक योगिता उसकी मदद करने नहीं पहुंची.

महिला ने बच्चे की मदद करने के लिए इंस्टाग्राम पर अपडेट किया और पोस्ट डालते हुए लिखा कि ” विशाल एक बहुत ही नेक और उदार स्वभाव का बच्चा है जो मुझे पार्क में मिला और कुत्तों को खाना खिलाने में मेरी मदद करता है.”

अपने इंस्टाग्राम पेज के ज़रिए महिला ने बच्चे और उसके परिवार के लिए आर्थिक मदद भी मांगी और लोगों से निवेदन किया कि विशाल के पिता की नौकरी लॉकडाउन के कारण चली गई है इसलिए आप लोगों से अनुरोध है कि अपनी क्षमता अनुसार बच्चे और उसके पिता कि मदद करें. इस पोस्ट को पढ़ कर स्नेहा प्रभावित हुईं जिन्होंने पुलिस की मदद से बच्चे को जल्द से जल्द घर भेजने का फैसला किया. महिला ने कहा कि “स्नेहा ने मुझसे कॉन्टैक्ट किया और बच्चे को घर पहुंचाने के लिए हमने जद्दोजहद शुरू कर दी.”

ओडिशा कैडर के आईपीएस अधिकारी अरुण बोथरा और आईपीएस अधिकारी संजय की मदद से बच्चे के मां बाप को बिहार से दिल्ली बुलाया गया और बच्चे को परिवार सहित वापस घर भेजने का प्रबंध इंडिया केयर्स ने किया.


उत्तर प्रदेश सरकार ने घरेलू हवाई यात्रियों के लिए जारी किए गाइडलाइंस , होम क्वॉरन्टीन अनिवार्य

दिल्ली: IGI एयरपोर्ट पर यात्रियों के लिए एंट्री गेट और चेक इन रो फिक्स, यहां जानिए आपका गेट कौन सा होगा

https://static.abplive.com/wp-content/uploads/sites/2/2020/05/25005029/Delhi.jpg?impolicy=abp_cdn&imwidth=1200&imheight=628

Leave a Reply