(Corona) स्पेन में 113 की महिला ने कोरोना से जंग जीत ली है. कोरोना को हराने वाली वह सबसे उम्रदराज महिला हैं. उन्होंने ठीक होने पर डॉक्टर्स का आभार व्यक्त किया.

कोरोना वायरस, सार्स, स्वाइन फ्लू जैसे संक्रमण वाली बीमारियों से भी ज्यादा खतरनाक है. दुनिया में अब तक लाखों लोगों की मौत इस वायरस की वजह से हो चुकी हैं. अब भी लाखों इस वायरस से जंग लड़ रहे हैं और जीत रहे हैं. ऐसा ही एक मामला आया स्पेन के मेड्रिड से, जहां एक 113 साल की बुजुर्ग महिला ने कोरोना वायरस को मात दे दी है. इस बुजुर्ग महिला का नाम मारिया ब्रांयस है. अमेरिका में जन्मी मारिया पिछले महीने ओलोट शहर के सांता मारिया  में संक्रमित हुईं थीं. वह यहां पिछले 20 साल से रह रही हैं.

वह एक रिटायरमेंट होम केयर सेंटर में ही रहती थीं और उन्हें यहीं कोरोना वायर को मात दे दी. एक स्थानीय महिला निवासी ने बताया कि मारिया ब्रांयस ने कोरोना को हरा दिया और वह अब ठीक हैं. महिला ने कहा कि वह अब अच्छा महसूस कर रही हैं. उन्होंने पिछले हफ्ते टेस्ट करवाया था, जिसका रिजल्ट नेगेटिव आया है. आपको बता दें मारिया ब्रांयस ने कोरोना वायरस को हराने वाली दुनिया की सबसे उम्रदराज़ महिला भी बन गईं हैं. ब्रांयस तीन बच्चों की मां हैं.

ब्रांयस ने जताया आभार

स्थानीय खबरों के मुताबिक ब्रांयस एक रूम में पिछले कुछ हफ्तों से आइसोलेशन पर थी. उनके रूटीन चेकअप और देखभाल के लिए एक कर्मचारी को पूरी प्रोटेक्टिव गियर किट के साथ तैनात किया था. ठीक होने के बाद उन्होंने डॉक्टर्स और उनकी देखभाल करने वालों को आभार व्यक्त किया. किसी ने उनसे उनकी लंबी उम्र के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा कि वह बहुत खुशनसीब है कि उनके पास अच्छा स्वास्थ्य है. वहीं एक स्थानीय महिला ने बताया कि इस केयर होम में कोरोना वायरस की चपेट में आने से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है. Corona

पहले भी दे चुकी हैं फ्लू को मात

आपको बता दें कि ब्रांयस का जन्म 4 मार्च 1907 को सेन फ्रांसिस्को में हुआ था, जहां उनके पिता के पत्रकार थे. वह स्पेन के रहने वाले थे. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान वह स्पेन में आ गए. वह 1918-1919 के दौरान दुनिया में हुए स्पेनिश फ्लू की चपेट में भी आई गईं थी. साल 1936-39 के दौरान स्पेन में हुए गृह युद्ध के दौरान भी वह फ्लू की चपेट में आईं थीं, लेकिन उन्होंने दोनो बार इसे मात दे दी थी. Corona

Leave a Reply